+91-89659 49968 Register    My Account

पंकज पलक्ष

पंकज पलक्ष

Que 1 :- आपने अपने विशेष क्षेत्र या शैली में लिखना क्यों चुना? यदि आप एक से अधिक लिखते हैं, तो आप उन्हें कैसे संतुलित करते हैं

Ans :- हम जिस भाषा, परिवेश, क्षेत्र के आंगन में पलते है उस भाषा में हम अपनी भावनाएं अच्छी तरह व्यक्त कर सकते है। जहाँ तक बात शैली की है तो इस किताब में एक शैली नहीं अपितु तीन विधाओं का प्रयोग किया गया है ।सही संतुलन रख कर हम एक से अधिक शैली में काम कर सकते हैं ।

Que 2 :- आप कब से लिख रहे हैं? और आप किस तरह का लेखन करते हैं?

Ans :- मुझे जहाँ तक याद है जब मैं नौवीं कक्षा में पढता था तो उस समय टूटे – फूटे शब्दों में अपनी संवेदना व्यक्त करता था।

इस किताब में प्रयोग की जाने वाली विधाओं के अलावा लघुकथा, कहानी और लेख लिखना भुझे पसंद है।                                                                                   

Que 3 :- आप लेखन / पठन / कहानी / लेखन आदि में क्या सांस्कृतिक मूल्य देखते हैं?

Ans :- साहित्य संस्कृति को सहेजती आ रही है। जब से मानव को भाषा का ज्ञान हुआ, वह संस्कृति को साहित्य में एकत्रित करता रहा है। लेखन, पठन से हम अपनी सांस्कृतिक मूल्यों को बनाएं रखते हैं और दुनियां के अलग-अलग  संस्कृति को जानते हैं, जिससे समाज को नई दिशा मिलती है।

Que 4 :- इस पुस्तक में आपके लक्ष्य और इरादे क्या थे, और आप उन्हें कितना अच्छा महसूस करते हैं?

Ans :- मेरे प्यारे दोस्त चाहते थे कि मैं कविता का एक संग्रह प्रकाशित करूं और मेरी भी यही कामना थी। जब इस किताब पर काम कर रहा था तभी मैंने हाइकु लिखना सिखा।

कविता, ग़ज़ल, हाइकु के साथ जब यह संग्रह तैयार हुआ तो काफी अच्छा महसूस हुआ।

Que 5 :- आपको क्या लगता है कि आपके लेखन में सबसे अधिक विशेषता है? और इस पुस्तक को लिखने का सबसे कठिन हिस्सा? आपको लिखना सीखने में सबसे उपयोगी क्या लगा? क्या कम से कम उपयोगी या सबसे विनाशकारी था?

Ans :- लिखना सिखने में आपका धैर्य बहुत मायने रखता है। कभी-कभी पुरी रात जगने पर भी एक अच्छी पंक्ति नहीं बनती तो मन निराश होता है, किन्तु धैर्य, उम्मीद, एक संतुलन के साथ विश्वास, इच्छा शक्ति होने कि से सीखने की प्रक्रिया चलती रही।

मैं हमेशा कुछ न कुछ सीखने का प्रयत्न करता हूँ।

कुछ परेशानियों की वजह से महिनों तक पढ़ने लिखने से दूर रहना बहुत ही बुरा था।

Que 6 :- क्या आप पूर्णकालिक या अंशकालिक लेखक हैं? यह आपके लेखन को कैसे प्रभावित करता है?

Ans :- मैं पूर्णकालिक या अंशकालिक लेखक हूँ ये मुझे नहीं पता लेकिन मैं लिखता हूँ तो मैं अपने भीतर अच्छा महसूस करता हूँ ।शब्दों का स्पर्श मेरी संवेदना को शक्ति देतें है ।

Que 7 :- आप कैसे लिखते हैं या लिखने के लिए समय निकालते हैं?

Ans :- काम की अधिकता के कारण दिन में पढ़ने-लिखने का समय नहीं मिलता। इसके लिए मैं रात का समय ही निकाल पाता हूँ।

Que 8 :- लेखन समुदाय में आपकी क्या भूमिका है?

Ans :- फिलहाल लेखन समुदाय में मेरी कोई भूमिका नहीं है। मुझे स्वतंत्र रूप से लिखना पसंद है।

Que 9 :- भविष्य की परियोजनाओं के लिए आपकी योजनाओं में क्या शामिल है? Ans :- मैं वर्तमान में यकीन रखता हूँ भविष्य के गर्भ में क्या छिपा कुछ कहा नहीं जा सकता। लेकिन  कुछ मुद्दों पर काम किया जा सकता है। प्रकृति संरक्षण, शोषित समाज की समस्याएं, स्त्रियों पर हो रहे अत्याचार पर तथ बच्चों के लिए रोचक और ज्ञान वर्धक सहित्य पर काम किया जा सकता है।

Average Rating: 5.0 out of 5 (1 votes)
5 stars
1
4 stars
0
3 stars
0
2 stars
0
1 star
0
Harish Kumar Prasad
Pankaj Palaksh

आप लिखते रहे मैं पढ़ता रहूँ

शब्दो के झलमी से शब्द निकालना तो आप से सीखे

4 months ago

Review पंकज पलक्ष.

Your email address will not be published. Required fields are marked *