• Ajnabi : Ek Ansuni Kahani by (Rupesh Dewangan) Quick View
    • Ajnabi : Ek Ansuni Kahani by (Rupesh Dewangan) Quick View
    • Ajnabi : Ek Ansuni Kahani by (Rupesh Dewangan)

    • 349.00
    • Rated 0 out of 5
    • """दस्तक"" इनकी पहली किताब है, जो कि एक काव्य संग्रह है और पाठकों से इस किताब को खूब प्रशंसा मिली है, इस किताब के बाद इन्हें एक युवा लेखक के रूप में पहचान मिली, इनकी किताब ""दस्तक"" को कई अवार्ड भी प्राप्त हुए हैं। कविताओं के बाद कहानी लेखन में ""अजनबी"" इनका पहला प्रयास है। अपने पेशे के साथ साथ…
    • Add to cart
  • Anathanchi Mai Sindhutai by (Sanjay Patil) Quick View
    • Anathanchi Mai Sindhutai by (Sanjay Patil) Quick View
    • Anathanchi Mai Sindhutai by (Sanjay Patil)

    • 140.00
    • Rated 0 out of 5
    • "सिंधुताई को बचपन से ही पढ़ाई में बहुत रूचि थी मगर माँ पढ़ाई के सख्त खिलाफ थी | बचपन से ही सिंधु अपने पिताजी की लाड़ली बेटी थी और ज्यादातर समय इन्ही के साथ बिताया करती थी | एक प्रकार से कहा जा सकता हैं कि माँ अपनी बेटी से बहुत नफरत किया करती थी क्योंकि माँ बेटी नहीं अपितु…
    • Add to cart
  • Anjani kumar Ankur ki samakalin laghukathaen by (Anjani Kumar Ankur) Quick View
    • Anjani kumar Ankur ki samakalin laghukathaen by (Anjani Kumar Ankur) Quick View
    • Anjani kumar Ankur ki samakalin laghukathaen by (Anjani Kumar Ankur)

    • 150.00
    • Rated 0 out of 5
    • यह किताब स्व अंजनी कुमार अंकुर जी की चुनिंदा लघुकथाओं का संकलन है जिसे मेरे द्वारा संकलित व संपादित किया गया है। Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing (31 October 2022) Language ‏ : ‎ Hindi Paperback ‏ : ‎ 93 pages ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355356314 Reading age ‏ : ‎ 3 years and up Country of Origin ‏ : ‎ India…
    • Add to cart
  • Baat Ka Batangad : Hasy Natak (Hindi and Malwi) by (Satish Dave) Quick View
    • Baat Ka Batangad : Hasy Natak (Hindi and Malwi) by (Satish Dave) Quick View
    • Baat Ka Batangad : Hasy Natak (Hindi and Malwi) by (Satish Dave)

    • 210.00
    • Rated 0 out of 5
    • A, satire, comedy based on day to day life experience and problems, successfully staged several time, Awarded by Madhya Pradesh Sahitya Akedemi . Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing (24 November 2022) Language ‏ : ‎ Hindi Paperback ‏ : ‎ 175 pages ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355354754 Reading age ‏ : ‎ 3 years and up Country of Origin ‏ :…
    • Add to cart
  • Give Faith a Chance by (Rutuja Naik) Quick View
    • Sale!
      Give Faith a Chance by (Rutuja Naik) Quick View
    • Give Faith a Chance by (Rutuja Naik)

    • 141.00
    • Rated 0 out of 5
    • "Faith has a vast meaning. Every person has his own definition of Faith, though it's different from person to person, it plays a crucial role in everyone’s life. Give Faith a Chance is an ordinary tale of six weird teenagers residing in the busiest city of India named Mumbai , each having different cultural and social backgrounds, different personalities, different…
    • Add to cart
  • Guru Gyaan by (Hansraj Hans) Quick View
    • Guru Gyaan by (Hansraj Hans) Quick View
    • Guru Gyaan by (Hansraj Hans)

    • 160.00
    • Rated 0 out of 5
    • Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing (06 September 2022) Language ‏ : ‎ Hindi Paperback ‏ : ‎100 pages ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355355157 Reading age ‏ : ‎ 3 years and up Country of Origin ‏ : ‎ India Generic Name ‏ : ‎ Book
    • Add to cart
  • Jeb Me Jannat by (Satya Prakash Yadav) Quick View
    • Jeb Me Jannat by (Satya Prakash Yadav) Quick View
    • Jeb Me Jannat by (Satya Prakash Yadav)

    • 370.00
    • सम-सामयिक साहित्यिक उपन्यास 'जेब में जन्नत' ग्रामीण पृष्ठभूमि पर आधारित फैज़ाबाद जिले के काशीपुर की जादुई कहानी है। गांव के एक जमींदार खानदान के दो महारथी अजय विक्रम सिंह और कासिम शेर खान के वर्चस्व की जबरदस्त लड़ाई उपन्यास का आधार है। प्रस्तुत उपन्यास में सामुदायिक सहयोग, परस्पर समन्वय, ग्रामीण लोक परम्परा और रीति रिवाज की देशी सुगंध है, रामेश्वर…
    • Add to cart
  • Jeevan Ke Maulik Aakhyaan : Kahani Sangra by (Dr. Siyasharan Jyotishi) Quick View
    • Jeevan Ke Maulik Aakhyaan : Kahani Sangra by (Dr. Siyasharan Jyotishi) Quick View
    • Jeevan Ke Maulik Aakhyaan : Kahani Sangra by (Dr. Siyasharan Jyotishi)

    • 210.00
    • Rated 0 out of 5
    • "जीवन के मौलिक आख्यान,'' कहानी संग्रह में संकलित कहानियों में नारी उत्थान, व्यवस्था परिवर्तन, यथार्थ बोध, गरीबी उन्मूलन, सामाजिक समरसता, संयुक्त परिवार की संकल्पना, शिक्षा, साकार स्वप्न की परिकल्पना जैसे लक्ष्यात्मक बोधमय आत्मचिंतन निखर उठा है।समस्या और समाधान, दोनों स्तर पर पात्र जीवंत हो उठे हैं। दु:ख-दर्द , संत्रास से देश-काल और वातावरण सजीव हो उठे हैं। कहानियों में भाषा…
    • Add to cart
  • Jindagi Ke Tedhe-Medhe Raste by (Keshav Shukla) Quick View
    • Jindagi Ke Tedhe-Medhe Raste by (Keshav Shukla) Quick View
    • Jindagi Ke Tedhe-Medhe Raste by (Keshav Shukla)

    • 110.00
    • Rated 0 out of 5
    • ऊंची-नीची राहें, पहाड़ियां, गलियां, पगडंडियों से होकर जिंदगी गुजरती है। न जाने कितने कांटे पैरों को चुभते हैं, कितनी बाधाएं मंजिल का रास्ता रोक खड़ी रहती हैं पर इंसान की फ़ितरत तो चलना है।वह चलता चला जाता है,मंजिल मिले या न मिले। इसी तरह टेढ़े-मेढ़े रास्तों से गुजर कर में आया हूं। बहुत कुछ खोया हूं तो पाया भी हूं।…
    • Add to cart
  • Joohi Ki Khidaki by (Nageshwar Prasad Mukherjee (Pathik)) Quick View
    • Joohi Ki Khidaki by (Nageshwar Prasad Mukherjee (Pathik)) Quick View
    • Joohi Ki Khidaki by (Nageshwar Prasad Mukherjee (Pathik))

    • 125.00
    • Rated 0 out of 5
    • "उपन्यास के सम्बन्ध में ---- ---------------------------------- जूही की खिड़की एक अदभुत एवं अनूठी प्रेम कथा है ! पात्र , स्थान और घटनाएँ काल्पनिक होते हुए भी दावा है पाठकों को लगेगी कि सभी पात्र प्राकृतिक दृश्यों के साथ जीवंत होकर अपनी-अपनी भूमिका अदा करते नजर आ रहे हैं ! कथा के बीच-बीच में दृश्यानुसार गीत भी प्रस्तुत किया गया है…
    • Add to cart
  • KARMA by (Naresh Gupta) Quick View
    • KARMA by (Naresh Gupta) Quick View
    • KARMA by (Naresh Gupta)

    • 190.00
    • Rated 0 out of 5
    • "मेरे प्यारे दोस्तों, मुझे बहुत खुशी हो रही है आपको यह बताते हुए कि ईश्वर की मदद और उनके उत्साह से मैं अपनी अगली किताब लिखने में कामयाब हो गया हूं। ""कर्म/KARMA"" जो कर्म के ऊपर है, कि कर्म क्या है, कर्म कब बना, कैसे बना और कब शुरू हुआ। हम अपने कर्मों को करते हुए किस प्रकार ईश्वर के…
    • Add to cart
  • Krishn Katha – 2 : Karmakshetre by (Ranjana Verma) Quick View