Filter
    • Udgaar, By(Kundan Ram Khatwal)
      Add to cart
      • , , ,
      • Udgaar, By(Kundan Ram Khatwal)

      • 130.00
      • "अवकाश प्राप्त प्रधानाचार्य श्री कुन्दन राम खतवाल द्वारा रचित 'उद्गार' कविता संग्रह बुक्स क्लिनिक विलासपुर छत्तीसगढ़ से प्रकाशित हो रहा है।इस कविता संग्रह में कुल 48 कविताएं संग्रहित हैं, जो जीवन के विभिन्न पहलुओं से रूबरू कराती हैं।'उद्गार' कविता संग्रह महज कल्पनाओं पर आधारित नहीं है बल्कि जीवन में घटित होने वाली छोटी बड़ी विभिन्न घटनाओं व अनुभवों का सजीव…
    • Madhumaas, By(Amiyesh Chandra Mathur)
      Add to cart
      • , , , ,
      • Madhumaas, By(Amiyesh Chandra Mathur)

      • 150.00
      • "कवि ने अपने काव्य ""मधुमास"" में मर्म बोध कराती अनेक प्रस्तुतियों से जीवन के सत्य और सुन्दरता का बोध कराया है। पाठक स्वयं उस भाव में डूब कर आनंदानुभूति से भर जाता है यही काव्य लेखन की विशेषता है। अल्हड़ और परिपक्व आयु की प्रखरता आल्हादित करती है। शब्दों में भी जादू होता है यदि कहने का अंदाज अलग हो।"…
    • Tazurbe Ki Mahak, By(Sharmila Kumari)
      Add to cart
      • , , , ,
      • Tazurbe Ki Mahak, By(Sharmila Kumari)

      • 125.00
      • "तज़ुर्बे की महक: साभार है जीवन की गलियों में गुजरते सफ़र उनसे बनते बिखरते सहेजते और बढ़ते पगडंडियों का। जिसमें विशेष है; मेरी (बूस्टर) मेरी पुत्री और बाकी बहुत कुछ जो अनुभूतियों (तज़ुर्बे की महक) है एक खूबसूरत काल्पनिक आसमां के साथ। आशा करती हूँ पाठकगण खुद भी इस महक का आनंद लेंगे। धन्यवाद। Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing  Language…
    • 21 Vi Sadi Ka Maanav Aur Maanvta Dharm, By(Ram Kumar Thakur)
      Add to cart
      • , , , ,
      • 21 Vi Sadi Ka Maanav Aur Maanvta Dharm, By(Ram Kumar Thakur)

      • 110.00
      • मेरी यह पुस्तक जिसका शीर्षक है- 21वीं सदी का मानव और मानवता धर्म। यह पुस्तक जो 21वीं सदी के वर्तमान में हो रहे मानव में परिवर्तन और भविष्य में होने वाले परिवर्तन पर एक झलक है। मैं यह नहीं कह सकता कि मेरे द्वारा लिखी समस्त बातें सत्य होगी। परंतु वर्तमान और भविष्य की कल्पना और माँ शारदे, पिता श्री…
    • MI TUMCHYATALI , By(Ku. Vanita Sadashiv Phulpagar)
      Add to cart
      • , , ,
      • MI TUMCHYATALI , By(Ku. Vanita Sadashiv Phulpagar)

      • 170.00
      • मुळात जीवन आणि साहित्य यांचा संबंधच मुळी बिंब आणि प्रतिबिंब असा असतो. समाजातील बिंबाचे प्रतिबिंब साहित्यात उमटत असते. या पुस्तकात लेखिकेला प्रत्यक्ष/अप्रत्यक्ष भेटलेल्या किंवा त्यांच्या कल्पनेतून साकारलेल्या माणसांच्या कथा आणि व्यथाही आहेत. त्या इतक्या सहज आणि सोप्या शब्दांत त्यांनी मांडलेल्या आढळतात की, साधेपणा आणि सहजपणा हा त्यांच्या साहित्यात‌ला केंद्रबिंदू ठरतो. यातील कथा आपणाला सहज काही शिकवून जातात, बोध देऊन जातात…
    • Aagaaz, By(Dr. Durga Prasad Mersa)
      Add to cart
      • , , , ,
      • Aagaaz, By(Dr. Durga Prasad Mersa)

      • 200.00
      • जैसा की आप सभी जानते हैं कि""आगाज़ "" का मतलब ही होता है अनुष्ठान प्रारंभ या शुरूआत। आगाज काव्य-संग्रह मेरी प्रथम प्रकाशित कृति है जिसमें मैंने भारतीय संविधान के उददेश्य पर अधारित न्याय,समानता,समता, बंधुता व राष्ट्रीय एकता की भावना को केन्द्र में रखकर कलम चलाने का प्रयास किया है मै इस प्रयास में कहाँ तक सफल हूँ ,निर्णय आपके हाथ…
    • Main Hoon Akaash,By(Akash “Adbhut”)
      Add to cart
      • , , , ,
      • Main Hoon Akaash,By(Akash “Adbhut”)

      • 249.00
      • "मेरे काव्य संग्रह को पढ़ने वाले सभी स्नेही जनों की ओर से मिले प्रोत्साहन एवं प्रशंसा के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद, आभार और प्रणाम । मैं अपने शहर कानपुर और प्रदेश एवं देश के समस्त लोगों का विशेष आभार व्यक्त करता हूं जिन्होंने मेरे काव्य संग्रह में रुचि रखी उसे पढ़ा एवं अन्य लोगों को भी पढ़ने का सुझाव दिया। देश…
    • Ankahi Baten, By(Dasheram Dahariya)
      Add to cart
      • , , , ,
      • Ankahi Baten, By(Dasheram Dahariya)

      • 190.00
      • "प्यार तो हर कोई करता है। इस दुनिया में इससे कोई भी छूटा नहीं है । जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है हमारे चेहरे बदलते जाते हैं और प्यार में कई नए रंग जुड़ते जाते हैं। कहानी मां बाप से शुरू होकर स्कूल के यार दोस्त अपना परिवार और रिश्तेदारों तक ही सीमित नहीं रहता अपना दायरा बढ़ाता जाता है ।…
    • Naaz(Ek Adhura Safar),By(Narpat Singh Sodha)
      Add to cart
      • , , ,
      • Naaz(Ek Adhura Safar),By(Narpat Singh Sodha)

      • 150.00
      • यह कहानी उस वक्त की है जब मानव जीवन की जड़ें पूरी तरह हिल चुकी थी | कोरोना महामारी के दौरान उपजी यह कहानी एक ऐसे असहाय परिवार की है जो हजारों किलोमीटर पैदल सफर तय करता है , एक ऐसा परिवार जो अंर्तजातीय विवाह के कारण घर से भाग जाता है लेकिन एक ऐसा वक्त आता है जब हर…