• Jeev aur Jeevan by (Prakash Chandra Seth) Quick View
    • Jeev aur Jeevan by (Prakash Chandra Seth) Quick View
    • Jeev aur Jeevan by (Prakash Chandra Seth)

    • 150.00
    • Rated 0 out of 5
    • "राम राम, प्रिय,आदरणीय पाठक गण, 'जीव और जीवन' को लेखक का लिखने का मूल उद्देश्य समाज में फैली कुरीतियां ब दिन प्रतिदिन धर्म के नाम पर बढ़ता अंधविश्वास, और सामाजिक वैमनस्यता और बढ़ती जाती जात-पात की कट्टरता, के ऊपर एक सद प्रहार है, धर्म जीवन में जरूरी है पर कितना ? जितना कि मनुष्य के लिए जीने के लिए भोजन…
    • Add to cart
  • Likhit Lekhani : Manatale Bol by (Gayatri Hindurao Nagaonkar) Quick View
  • Madhubrat-Gunjan : Svarachit Kavy Sangrah by (Dr. Om Prakash Mishra ‘Madhubrat’) Quick View
    • Madhubrat-Gunjan : Svarachit Kavy Sangrah by (Dr. Om Prakash Mishra ‘Madhubrat’) Quick View
    • Madhubrat-Gunjan : Svarachit Kavy Sangrah by (Dr. Om Prakash Mishra ‘Madhubrat’)

    • 300.00
    • Rated 0 out of 5
    • "अंतर्मन की पीड़ा का वहिर्जगत् की पीड़ा से तादात्म्य होते ही अभिव्यक्ति की आकुलता कवि हृदय में जाग पड़ती है । इसी व्याकुलता में प्रकृति के अनुपम चितेरे कविवर सुमित्रानंदन पंत जी ने लिखा था, वियोगी होगा पहला कवि, आह से उपजा होगा गान । उमड़ कर आँखों से चुपचाप, बही होगी कविता अनजान ।। अस्तु किं बहुना मधुब्रत-गुंजन काव्य…
    • Add to cart
  • Man ke Udgaar Aapke Dwaar by (Dr. Satya Prakash Sharma, Dr. Malti Sharma) Quick View
    • Man ke Udgaar Aapke Dwaar by (Dr. Satya Prakash Sharma, Dr. Malti Sharma) Quick View
    • Man ke Udgaar Aapke Dwaar by (Dr. Satya Prakash Sharma, Dr. Malti Sharma)

    • 194.00
    • Rated 0 out of 5
    • "दोस्तो यह कविताओ की पुस्तक जिसका शीर्षक है “मन के उद्गार आपके द्वार” आप सबको सादर समर्पित है, चूकि यह हमारी पहली रचना है जिसमे हमने अपनी मौलिकता तथा व्यवहारिक जीवन के दर्शन का सामजस्य बिठाने की कोशिश की है। जो विचार जिस समय हमारे जहॅन मे आते गये हमने उनको उसी समय कलमबद्ध करने की चेष्ठा की है। यहा…
    • Add to cart
  • Mera Pariwar : kavy-Sangrah by (Rajesh Kumar Banjare) Quick View
    • Mera Pariwar : kavy-Sangrah by (Rajesh Kumar Banjare) Quick View
    • Mera Pariwar : kavy-Sangrah by (Rajesh Kumar Banjare)

    • 85.00
    • Rated 0 out of 5
    • "प्रिय पाठकों मुझे खुशी है कि ""मेरा परिवार"" काव्य-संग्रह पुस्तक आप तक पहुँची है। मैंने अपने जीवन में परिवार के उन अनुभवों को कविता के माध्यम से आप सभी तक पहुँचाने की एक छोटी सी कोशिश कि है। जीवन विभिन्न समस्याओं से घिरा हुआ होता है। जीवन में परिवार ही है जो साथ होता है । कोई भी परेशानियाँ आये…
    • Add to cart
  • Meri-Duniya by (Amritlal Pathak) Quick View
    • Sale!
      Meri-Duniya by (Amritlal Pathak) Quick View
    • Meri-Duniya by (Amritlal Pathak)

    • 123.00
    • Rated 0 out of 5
    • 'Meri duniya' is a first poetry book of author published by Book Clinic publication & next poetry book 'Kavy Lok' is going to be published very shortly.The author has a big quantity of poetry & further programme of publication will be announced shortly. Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing Language ‏ : ‎ Hindi Paperback ‏ : ‎ 113 pages ISBN-13 ‏…
    • Add to cart
  • Mutthi Bhar Tinke – Kavya-Sangrah – (Kishan Tandon Kranti) Quick View
    • Mutthi Bhar Tinke – Kavya-Sangrah – (Kishan Tandon Kranti) Quick View
    • Mutthi Bhar Tinke – Kavya-Sangrah – (Kishan Tandon Kranti)

    • 170.00
    • Rated 0 out of 5
    • " मुट्ठी भर तिनके (काव्य-संग्रह) के बारे में ------------------------------------------------------- कवि, लेखक, विचारक एवं प्रशासनिक अधिकारी, साहित्य वाचस्पति- श्री किशन टण्डन क्रान्ति द्वारा रचित ""मुट्ठी भर तिनके"" काव्य- संग्रह में कुल 87 कविताएँ संग्रहित हैं। 'मुट्ठी भर तिनके' में मानव जीवन के विविध पहलुओं पर प्रकाश डालते हुए समाज सुधार पर बल दिया गया है। साथ ही साथ जीवन की नश्वरता…
    • Add to cart
  • Panchaamrt Kaavy by (Kailashi Rameshwar Dayal Tiwari “Rahi”) Quick View
    • Panchaamrt Kaavy by (Kailashi Rameshwar Dayal Tiwari “Rahi”) Quick View
    • Panchaamrt Kaavy by (Kailashi Rameshwar Dayal Tiwari “Rahi”)

    • 200.00
    • Rated 0 out of 5
    • कवि एक रचनाकार होता है और वह माँ भारती की अनुकम्पा से सामाजिक नीरवता को सरसता में परिवर्तित करने तथा मानवीय नकारात्मक विड़म्बनाओं में यथासामर्थ्य शब्द शक्ति से सकारात्मकता स्थापित करना होता है लेकिन कभी कभी कुछ ऐसी स्थितियाँ भी कवि के समक्ष उपस्थित हो जातीं हैं जिसके निर्वाह न करने से राष्ट्रधर्म को आघात पहुँचने की आशंका का आभास…
    • Add to cart
  • Prerana Ke Kuchh Shabd by (Nutan Lal Sahu) Quick View
    • Prerana Ke Kuchh Shabd by (Nutan Lal Sahu) Quick View
    • Prerana Ke Kuchh Shabd by (Nutan Lal Sahu)

    • 230.00
    • Rated 0 out of 5
    • "अपनी बात जिला गरियाबंद छत्तीसगढ़ के अंतर्गत ग्राम पांडुका की साहित्यिक उर्वरा भूमि में स्वर्गीय मनीषी नारायण लाल परमार,उधोराम झखमार,श्री रामेश्वर वैष्णव,श्री काशीपुरी कुंदन जैसे सुप्रसिद्ध साहित्यकारों ने सफलता के नए नए आयाम उद्घाटित किए हैं। मैं भी अपनी साहित्यिक पहचान बनाने के लिए निरंतर प्रयास करता रहा,मेरे प्रयास से प्रभावित होकर श्री काशीपुरी कुंदन जी ने एक दिन कहा…
    • Add to cart
  • Sab Rang by (Anita Srivastava ‘Tamanna’) Quick View
    • Sab Rang by (Anita Srivastava ‘Tamanna’) Quick View
    • Sab Rang by (Anita Srivastava ‘Tamanna’)

    • 155.00
    • Rated 0 out of 5
    • "अनिता श्रीवास्तव तमन्ना की ये किताब “सबरंग” जो आपके हाथ में है इस किताब में अनिता जी की शायरी के सभी रूप आपको मिल जायेंगे जैसे-.कतआत, ग़ज़ल गीत नअत सेहरा कवितायें, नज़्म वगैरह। अनिता जी ने अपनी शायरी में अपने स्वंय के जज़बात और फिक्र को जगह दी है। ये खुशी की बात है कि अनिता जी स्वंय ही शेर…
    • Add to cart
  • Samarpan : Bhaavon ka by (Sushila Devi) Quick View
    • Samarpan : Bhaavon ka by (Sushila Devi) Quick View
    • Samarpan : Bhaavon ka by (Sushila Devi)

    • 125.00
    • Rated 0 out of 5
    • Pre-Order Now "मेरे अंतर्मन से जब हमारा अंतर्मन किसी बात को महसूस करता है तो हमारे दिल के किसी कोने में छुपा हुआ कवि अपनी भावनायों को लय बद्ध करता हुआ ऐसी रचनायों को उपजा देता है जिसकी छवि उसके अंतर्मन ने कभी न कभी स्वप्न में तो जरूर सोची होगी। वास्तव में काव्य उन सभी भावों का तालमेल होता…
    • Add to cart
  • Shabdon Ki Naav by (Anil “Satyapriya”) Quick View