• Gunagunati jindagi by (Rajesh kumar) Quick View
    • Gunagunati jindagi by (Rajesh kumar) Quick View
    • Gunagunati jindagi by (Rajesh kumar)

    • 99.00
    • Rated 0 out of 5
    • "प्रिय पाठकों मुझे हर्ष है कि आप तक ""गुनगुनाती जिंदगी"" पुस्तक पहुँची है। जिसमें जिंदगी के अनुभवों के आधार पर शब्दों को पिरोने का एक सूक्ष्म प्रयास है। जीवन विभिन्न उतार-चढ़ावों से भरा है। जिसे हम सभी दैनिक जीवन में अनुभव करते है। एक आदर्श जीवन हमेशा प्रसन्नता की ओर इंगित करता है। ये कठिन है पर हमें अनुसरण करना…
    • Add to cart
  • Har Panna Kuch Kehta Hai by (Narendra Singh) Quick View
    • Har Panna Kuch Kehta Hai by (Narendra Singh) Quick View
    • Har Panna Kuch Kehta Hai by (Narendra Singh)

    • 180.00
    • Rated 0 out of 5
    • मेरा प्रथम कविता संग्रह का प्रकाशन हो चुका है। जिसका नाम है "मन की लड़ियाँ" जो 100 कविताओं का संग्रह है। उस संग्रह में बहुत सी कविताओं को स्थान न मिला। कारण, मैं उसे कमतर आँक कर अलग कर दिया था। हालाँकि, "मन की लड़ियाँ" के प्रकाशक का कहना था कि आप स्वयं अपनी किसी रचना को निम्नतर नहीं कह…
    • Add to cart
  • Hijr by (Mohit Singh Dhurve) Quick View
    • Hijr by (Mohit Singh Dhurve) Quick View
    • Hijr by (Mohit Singh Dhurve)

    • 170.00
    • Rated 0 out of 5
    • "हिज्र”, मेरी इस किताब का नाम, “हिज्र” यानि बिछड़ना या अलग होना। ज़हन का बड़ा अजीब ख़याल है ये “हिज्र”, जब ये ख़याल होता है तो परेशानी होती है और जब इससे छुटकारा मिलने लगता है तो दिल में तकलीफ़ होती है इस ख़याल से दूर जाने में । लिखना मेरा पेशा तो नहीं है लेकिन मेरा ख़याल कुछ ऐसा…
    • Add to cart
  • Jangal Ek Geet Hai by (Ajay Pathak) Quick View
    • Jangal Ek Geet Hai by (Ajay Pathak) Quick View
    • Jangal Ek Geet Hai by (Ajay Pathak)

    • 200.00
    • Rated 0 out of 5
    • "‘‘जंगल एक गीत है’’ का दूसरा संस्करण आपके हाथों में सौंपते हुये मुझे बहुत खुशी हो रही है। पढ़ने-पढ़ाने की लुप्त हो रही परंपरा के बीच किसी पुस्तक की दूसरी आवृत्ति का प्रकाशित होना लेखक के रचनाकर्म की लोक अभिस्वीकृति का एक सुखद परिणाम ही है, मैं इसे इसी रूप में देखता हूँ। जंगल और पर्यावरण से मेरा लगाव आरंभ…
    • Add to cart
  • Jeev aur Jeevan by (Prakash Chandra Seth) Quick View
    • Jeev aur Jeevan by (Prakash Chandra Seth) Quick View
    • Jeev aur Jeevan by (Prakash Chandra Seth)

    • 150.00
    • Rated 0 out of 5
    • "राम राम, प्रिय,आदरणीय पाठक गण, 'जीव और जीवन' को लेखक का लिखने का मूल उद्देश्य समाज में फैली कुरीतियां ब दिन प्रतिदिन धर्म के नाम पर बढ़ता अंधविश्वास, और सामाजिक वैमनस्यता और बढ़ती जाती जात-पात की कट्टरता, के ऊपर एक सद प्रहार है, धर्म जीवन में जरूरी है पर कितना ? जितना कि मनुष्य के लिए जीने के लिए भोजन…
    • Add to cart
  • Kaavy Rashmi : Kavitayen by (Aradhana Khare Sagar) Quick View
    • Kaavy Rashmi : Kavitayen by (Aradhana Khare Sagar) Quick View
    • Kaavy Rashmi : Kavitayen by (Aradhana Khare Sagar)

    • 200.00
    • Rated 0 out of 5
    • काव्य-रश्मि मेरा प्रथम कविता संग्रह है सूर्य की किरणों में समाये सात इन्द्र-धनुषी रंगों के सदृश्य जिन्दगी भी अगणित विचित्र रंगों से भरी होती है। मेरे मस्तिष्क के मनोभावों को जब जिस भाव, स्थिति और व्यक्ति ने प्रभावित किया, उसी को कलम की स्याही से कागज की सपाट छाती पर शब्दों से उकेरने का प्रयास मैंने किया है। मैं अपने…
    • Add to cart
  • Kaumudi : Prem Aur Darshan by (Aditi Singh ‘Pavitra’, Anu Urmil) Quick View
    • Kaumudi : Prem Aur Darshan by (Aditi Singh ‘Pavitra’, Anu Urmil) Quick View
    • Kaumudi : Prem Aur Darshan by (Aditi Singh ‘Pavitra’, Anu Urmil)

    • 165.00
    • Rated 0 out of 5
    • Pre-Order Now 23 बेहतरीन लेखकों की सहभागिता से प्रकाशित शब्दहार का तीसरा वार्षिक साहित्यिक संकलन कौमुदी 'प्रेम और दर्शन' प्रेम और दर्शन एवं लघु प्रेम कथा (लप्रेक) विधा पर आधारित है। इस पुस्तक में आपको प्रेम व दर्शन पर प्रत्येक रचनाकार के अलहदा नज़रिए से रूबरू होने का अवसर मिलेगा साथ ही पढ़ने को मिलेंगी कुछ संजीदा तो कुछ चुलबुली…
    • Add to cart
  • Kavya ki Pagdandiyon Se Guzarte hue : 	Sajha Sankalan by (Meera Aarchi Chauhan) Quick View
    • Kavya ki Pagdandiyon Se Guzarte hue : 	Sajha Sankalan by (Meera Aarchi Chauhan) Quick View
    • Kavya ki Pagdandiyon Se Guzarte hue : Sajha Sankalan by (Meera Aarchi Chauhan)

    • 170.00
    • Rated 0 out of 5
    • काव्य की पगडंडियों से गुजरते हुए सन् 1993 में बिछड़े सहपाठी मित्रों की कविताओं का अनूठा संग्रह है,जिसमें विभिन्न विषयों पर कविताएं लिखी गई है|नि: संदेह ये कविताएं पाठकों को प्रेरित करेगी| Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing (19 November 2022) Language ‏ : ‎ Hindi Paperback ‏ : ‎ 104 pages ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355356635 Reading age ‏ :…
    • Add to cart
  • Kirti Smriti : Hindi Kavya Sangrah by (Rajendra Kumar Pandey) Quick View
    • Kirti Smriti : Hindi Kavya Sangrah by (Rajendra Kumar Pandey) Quick View
    • Kirti Smriti : Hindi Kavya Sangrah by (Rajendra Kumar Pandey)

    • 170.00
    • Rated 0 out of 5
    • कीर्ति स्मृति काव्य संग्रह में आदरणीय वरिष्ठ साहित्यकार अपनी जीवन संगिनी बैकुंठ वासी कीर्ति लता पाण्डेय को समर्पित किया है इस काव्य संग्रह में पाण्डेय जी ने अपनी हार्दिक भावनाओं की काव्यात्मक अभिव्यक्ति की है । Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing (01 October 2022) Language ‏ : ‎ Hindi Paperback ‏ : ‎ 73 pages ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355355775…
    • Add to cart
  • Likhit Lekhani : Manatale Bol by (Gayatri Hindurao Nagaonkar) Quick View
  • Madhubrat-Gunjan : Svarachit Kavy Sangrah by (Dr. Om Prakash Mishra ‘Madhubrat’) Quick View
    • Madhubrat-Gunjan : Svarachit Kavy Sangrah by (Dr. Om Prakash Mishra ‘Madhubrat’) Quick View
    • Madhubrat-Gunjan : Svarachit Kavy Sangrah by (Dr. Om Prakash Mishra ‘Madhubrat’)

    • 300.00
    • Rated 0 out of 5
    • "अंतर्मन की पीड़ा का वहिर्जगत् की पीड़ा से तादात्म्य होते ही अभिव्यक्ति की आकुलता कवि हृदय में जाग पड़ती है । इसी व्याकुलता में प्रकृति के अनुपम चितेरे कविवर सुमित्रानंदन पंत जी ने लिखा था, वियोगी होगा पहला कवि, आह से उपजा होगा गान । उमड़ कर आँखों से चुपचाप, बही होगी कविता अनजान ।। अस्तु किं बहुना मधुब्रत-गुंजन काव्य…
    • Add to cart
  • Main Nirjhara : Zindagi Har Pal Hai Gungunati by (Ritu Gupta) Quick View
    • Main Nirjhara : Zindagi Har Pal Hai Gungunati by (Ritu Gupta) Quick View
    • Main Nirjhara : Zindagi Har Pal Hai Gungunati by (Ritu Gupta)

    • 249.00
    • Rated 0 out of 5
    • “मेरी यह पुस्तक हर उन युवाओं के लिए जो जीवन में कुछ करना चाहते हैं, जिनका जीवन में कोई लक्ष्य है | मुझे आशा है कि मेरी यह पुस्तक युवाओं के जीवन में बदलाव अवश्य लाएगी | मै पूरे दावे के साथ आप से वादा करता हूँ कि इस पुस्तक को पढ कर आपको अपना हर कार्य आसान लगने लगेगा…
    • Add to cart