Aadi Shankaracharya(Virat Vyaktitav avam Adwait Darshan), By(Dr. Vidyasagar Upadhyay)

300.00

लुप्तप्राय सनातन वैदिक हिन्दू धर्म को पुनर्स्थापित करने वाले,अद्वैत दर्शन के जनक,भारत के चारो दिशाओं में चार पीठों के संस्थापक, श्रीमद्भगवद्गीता ब्रह्मसूत्र और उपनिषदों के भाष्यकार,असंख्य दिव्य ग्रंथों के रचनाकार,आध्यात्मिक धार्मिक सामाजिक और राजनैतिक जागरण के अग्रदूत ,भगवान शिव के साक्षात अवतार , हिन्दू धर्म के सर्वोच्च गुरु भगवान आदि शंकराचार्य के विराट व्यक्तित्व,अद्भुत कृतित्व और मौलिक दर्शन से आज का अधिकांश युवा अनभिज्ञ है जो खेद का विषय है।प्रस्तुत पुस्तक “आदि शंकराचार्य ; विराट व्यक्तित्व एवं अद्वैत दर्शन” गागर में सागर भरने का प्रयास है।इस पुस्तक में जगद्गुरु की जीवनी,उनके जीवन के प्रेरक प्रसंग,दिग्विजय,शास्त्रार्थ और दर्शन को संक्षिप्त और सरल भाषा में प्रस्तुत किया गया है।आदि शंकर द्वारा मात्र ३२ वर्ष की आयु में जिस असम्भव को सम्भव कर दिखाया गया वह आज के युवा वर्ग को प्रेरित करे,यही इस पुस्तक का मूल उद्देश्य है।

  • Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing 
  • Language ‏ : ‎ Hindi
  • ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355358981
  • Reading Age ‏ : ‎ 3 Years And Up
  • Country Of Origin ‏ : ‎ India
  • Generic Name ‏ : ‎ Book

100 in stock (can be backordered)

SKU: book1616BCP Categories: , ,

Description

डॉ. विद्यासागर उपाध्याय एक ख्यातिलब्ध शिक्षाविद होने के साथ ही राष्ट्रवादी चिन्तक के रूप में जाने जाते हैं। उत्तर प्रदेश के बलिया जनपद के निवासी डॉ. उपाध्याय वर्तमान में शंकराचार्य परिषद के राष्ट्रीय पार्षद हैं तथा इनका व्याख्यान देश के अनेक उच्च संस्थानों में होता रहता है। भारतीय और पाश्चात्य दर्शन के विशेषज्ञ डॉ. उपाध्याय के असंख्य लेख देश – विदेश के पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं। इनकी एक पुस्तक “हिन्दू राष्ट्र की अवधारणा” शंकराचार्य परिषद हरिद्वार द्वारा तथा दूसरी पुस्तक “मृत्यु मीमांसा” अध्ययन पब्लिकेशन नई दिल्ली से और तीसरी पुस्तक “धर्मानुबंधन” इंस्टा पब्लिकेशन बिलासपुर छत्तीसगढ़ से प्रकाशित हो चुकी है। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ से डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त लेखक सन 2007 में उत्तर प्रदेश के समस्त विश्वविद्यालयों के रोवर्स/रेंजर्स समागम में प्रथम स्थान पर रहते हुए स्वर्ण पदक प्राप्त किया। तुलनात्मक धर्म दर्शन के विद्वान लेखक को “स्वामी विवेकानन्द युवा गौरव सम्मान 2023″,”उत्कृष्ट दार्शनिक सम्मान 2022″,”वसुधैव कुटुंबकम् सोशल अवेयरनेस अवार्ड 2019” इत्यादि प्राप्त हैं।

Additional information

Dimensions 5.5 × 8.5 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.