Aur Bhi Hai Rahe, By(Binny Shrivastava)

225.00

रात के ठीक 1 बज कर 44 मिनट में जब हम चारो ने कोटा राजस्थान की सरज़मीं पर अपना पहला कदम रखा मेरी नथुने गांजे की तेज महक से भर गई, उस Locality से हमारा मन बड़ा खट्टा हो गया जब Broker (ब्रोकर) ने हमारी मजबूरी का फायदा उठा कर हमसे ज्यादा पैसे ऐंठे, Hostel में गुजारे उन दस दिनों ने कैसे हमारे जीवन में अपना महत्वपूर्ण योग्यदान दिया ये तो जैसे-जैसे आप कहानी और पात्रो से जुड़ते चले जाएंगे आपको पता चलता जाएगा, इतनी जद्दोजहद से हमे बार-बार लग रहा था कि काश हम पहले आ कर घर Book कर लेते तो कितना अच्छा होता जैसा लगभग सभी करते है, पर ऊपर वाले की Planning तो कुछ और ही थी हमारे लिए तो राहे हमारे लिए इतनी आसान कैसे होती, 18 April 2018 को क्या हमारा Hostel से Final good Bye था ? कि ये आगे भी हमारी कोटा Life का हिस्सा होने वाली थी Pendemic (महामारी) में हमने क्या सिखा और क्या झेला ? जब अंत में सारी उठा पटक को झेलते हुए वो 16 वर्ष का किशोर, कोटा से निकला तो कितना परिपक्व हो कर निकला, तो चलिए जुड़ते है इस कहानी से जिसे लेखक ने पिरोया है दिल से।

  • Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing 
  • Language ‏ : ‎ Hindi
  • ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355358943
  • Reading Age ‏ : ‎ 3 Years And Up
  • Country Of Origin ‏ : ‎ India
  • Generic Name ‏ : ‎ Book

100 in stock (can be backordered)

SKU: book1522BCP Category:

Additional information

Dimensions 5.5 × 8.5 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.