Aviral Dhara

“एक सरल काव्य धारा

यह नव्य काव्य ,भावों भरी संरचना है जिसमें मानव उर के भावों की मनभावन

अभिव्यक्ति की गई है । अध्यात्म से लेकर जीवन यात्रा में घटने वाली अनेकानेक

प्रकार की घटनाओं का भावनात्मक वर्णन किया गया है । प्रकृति के इन्द्रधनुषी

सौंदर्य को उकेरने का अति सुन्दर प्रयास किया गया है । प्रकृति के सौंदर्य के साथ
साथ उसके आक्रोश को भी शब्दों में उतारने का प्रयास किया गया है । बिन

अवरोध यह साहित्यिक निर्झर की बहती धारा अनेक भावों को अपने साथ बहाते

हुए निरन्तर प्रवाह में बहती जाती है । कहीं दुःखद तो कहीं सुखद अनुभवों को कुछ

हर्षित व कुछ भावुक क्षणों को साथ बहाते हुए आपके हृदय में निरंतर इसे पढ़ने की
उत्सुकता को उजागर करे गी ।”

  • Paperback: 206 Pages
  • Publisher: Booksclinic Publishing
  • Language: Hindi
  • Edition: 1
  • ISBN: 978-93-89757-25-5
  • Release Date: 13 February 2020

210.00

  Ask a Question
SKU: book281 Category:

Book Details

Dimensions 5.5 × 8.5 cm

About The Author

Shashiinderjeet

“वीणा शर्मा… ‘ शशि इन्द्रजीत ‘ के उपनाम से अपने भावों की अभिव्यक्ति करती हैं । आपने नौ वर्ष की अल्प आयु में लेखन प्रारंभ किया था । नन्ही बाल- कविताएँ भी लिखी। ये आंग्लभाषा की प्राध्यापिका हैं लेकिन हिन्दी में भी लिखती हैं । यह अपनी उर्दू भाषा की रचनाओं को देवनागरी में लिपिबद्ध करती हैं ।
राज्य सरकार द्वारा इन्हें बैस्ट टीचर अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है ।”

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Aviral Dhara”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

No more offers for this product!

General Inquiries

There are no inquiries yet.