Dehkalash BY (Atmaram Yadav Peev )

400.00

देहकलश के लेखक वरिष्ठ पत्रकार आत्माराम यादव ने अपनी इस कृति मे सत्य सनातन धर्म की मूल संस्कृति के मंगलमय प्रसंगों को शामिल कर विषयांकित अमृतमयी शब्दगंगा के स्त्रोत से गागर मे सागर भरने का उत्तम प्रयास किया है जो निश्चित ही धरा पर सनातन संस्कृति की धरोहर के रूप में उनकी लेखनी पवित्र हो गयी हैं। परमेश्वर पर लिखने वाले हाथ पवित्र होते है, वहीं जप, तप, हवन करने या परमार्थ करने पर मनुष्य उसी प्रकार धन्य हो जाता है जिस प्रकर मुख से राम राम सुमिरन करने पर मुख पवित्र होता है, ईश्वर के कार्यो हेतु पग धरने पर पाद पवित्र हो जाते है, वही भाव इस कृति में देखने को मिला जहॉ सभी निरूपण धर्ममय ग्रंथ के रूप में सुलभ है। नवधा भक्ति को बढ़े ही सरल ढंग से व्याख्या कर लेखक ने भक्ति को सबके हृदय में अंकित करने के साथ अपना जीवन धन्य तो बनाया वहीं मानव जीवन में उद्देश्यरहित को भक्तिमार्ग देकर धन्य कर हनुमानं जैसे भक्त के समतुल्य लाकर अपनी बौद्धिक प्रखरता को प्रस्फुटित किया हैं ताकि पाठकों को उद्देश्य की प्राप्ति हो सके और वह मार्ग सहज-सुलभ एवं सुगम्य रहे।

  • Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing (6 January 2023)
  • Language ‏ : ‎ Hindi
  • Paperback ‏ : ‎ 248 pages
  • ISBN-13     :  9789355357496
  • Reading age ‏ : ‎ 3 years and up
  • Country of Origin ‏ : ‎ India
  • Generic Name ‏ : ‎ Book

100 in stock (can be backordered)

SKU: book1482BCP Category:

Additional information

Dimensions 5.5 × 8.5 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.