Jeevan Ke Maulik Aakhyaan : Kahani Sangra by (Dr. Siyasharan Jyotishi)

210.00

“जीवन के मौलिक आख्यान,” कहानी संग्रह में संकलित कहानियों में नारी उत्थान, व्यवस्था परिवर्तन, यथार्थ बोध, गरीबी उन्मूलन, सामाजिक समरसता, संयुक्त परिवार की संकल्पना, शिक्षा, साकार स्वप्न की परिकल्पना जैसे लक्ष्यात्मक बोधमय आत्मचिंतन निखर उठा है।समस्या और समाधान, दोनों स्तर पर पात्र जीवंत हो उठे हैं। दु:ख-दर्द , संत्रास से देश-काल और वातावरण सजीव हो उठे हैं। कहानियों में भाषा शैली,सरल,सहज और बोधगम्य बन पड़ी है। समूची कहानियां सकारात्मक सोच से परिपूर्ण हैं।नि:संदेह कहानियां समाज सापेक्ष हैं।

  • Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing (26 August 2022)
  • Language ‏ : ‎ Hindi
  • Paperback ‏ : ‎ 122 pages
  • ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355355898
  • Reading age ‏ : ‎ 3 years and up
  • Country of Origin ‏ : ‎ India
  • Generic Name ‏ : ‎ Book

100 in stock (can be backordered)

SKU: book1190BCP Category:

Description

“डॉ. सियाशरण ज्योतिषी, सह- प्राध्यापक, हिंदी विभाग, रानी दुर्गावती शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय मंडला मध्य प्रदेश।
जन्म:- 1 जुलाई 1962 ग्राम जगनाथर, मटियारी नदी के सुरम्य वातावरण में, जिला मंडला, मध्य प्रदेश।
सम्प्रति:- नर्मदा कॉलोनी, सरदार भगत सिंह वार्ड मंडला, मध्य प्रदेश।
शैक्षणिक योग्यता:- एम.ए. हिंदी(1984) रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर एवं पीएच.डी. 2010 (मंडला जिले के आदिवासी लोकगीतों में सामाजिक चेतना) डॉ. हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय सागर मध्य प्रदेश।
अन्य विवरण:-
*लोकगीत गायक आकाशवाणी जबलपुर मध्य प्रदेश।
*कहानी वाचक आकाशवाणी जबलपुर (लगभग डेढ़ सौ कहानियों का प्रसारण)
अभिरुचि:-
*फिल्मी एवं सुगम संगीत गायन।
*आर्गन एवं हारमोनियम प्ले करना।
*भजन लिखना, धुन बनाना और गायन।
*कहानी, व्यंग, संस्मरण, क्षणिकाएं एवं कविताएं लिखना।
प्रकाशन:-
*कादंबिनी में क्षणिकाएं एवं कविता का प्रकाशन।
*दैनिक भास्कर में क्षणिकाओं का प्रकाशन।
*अन्य राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में व्यंग एवं शोध आलेखों का निरंतर प्रकाशन। *कहानी संग्रह “”जीवन के मौलिक आख्यान””
संपर्क:- 9893095082 एवं 9407866886″

Additional information

Dimensions 5.5 × 8.5 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Jeevan Ke Maulik Aakhyaan : Kahani Sangra by (Dr. Siyasharan Jyotishi)”

Your email address will not be published.