Kavya ki Pagdandiyon Se Guzarte hue : Sajha Sankalan by (Meera Aarchi Chauhan)

170.00

काव्य की पगडंडियों से गुजरते हुए सन् 1993 में बिछड़े सहपाठी मित्रों की कविताओं का अनूठा संग्रह है,जिसमें विभिन्न विषयों पर कविताएं लिखी गई है|नि: संदेह ये कविताएं पाठकों को प्रेरित करेगी|

  • Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing (19 November 2022)
  • Language ‏ : ‎ Hindi
  • Paperback ‏ : ‎ 104 pages
  • ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355356635
  • Reading age ‏ : ‎ 3 years and up
  • Country of Origin ‏ : ‎ India
  • Generic Name ‏ : ‎ Book

100 in stock

SKU: book1399BCP Category:

Description

मीराआर्ची चौहान- कांकेर प्राकृतिक हरीतिमा से ओतप्रोत जगह है,जहाँ स्नातक तक पढ़ाई करने के बाद आप जगदलपुर एम.एस-सी. करने गईं |आकाशवाणी से इनकी कविताएं प्रसारित होती रही|25 साल बाद जब इनकी काव्य संग्रह अंशु प्रकाशित हुआ तो बी.एस-सी. के मित्रों ने कहा कि हम सबकी रचनाओं का साझा – संकलन प्रकाशित होना चाहिए फिर आपने संपादक का कार्य कर काव्य की पगडंडियों से गुजरते हुए प्रकाशित करवाने की ठानी और पेश है यह 11 मित्रों का साझा -संकलन |मीराआर्ची चौहान 2018 में राज्य शिक्षक सम्मान एवं 2022 में गजानन माधव मुक्तिबोध सम्मान के साथ ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अनगिनत सम्मान प्राप्त लब्ध प्रतिष्ठित कवयित्री हैं|वे वर्तमान में कांकेर जिले के शा. उ. मा. वि. डुमाली में रसायन शास्त्र की व्याख्याता हैं|

Additional information

Dimensions 5 × 8 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Kavya ki Pagdandiyon Se Guzarte hue : Sajha Sankalan by (Meera Aarchi Chauhan)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *