Samandar Teri Aankhen, By(Faizan taj quraishi)

180.00

गज़ल, ग़ज़ल लफ्ज़ो और जज़्बातों का मज्मू’आ है गज़ल हमें हमारे होने का एहसास कराती है ग़ज़ल हमें एक अजीब रुहानी सुकून देती है बचपन में जनाब मुनव्वर राना साहब जिनके घर के करीब ही पैदा हुआ उनकी ग़ज़ले सुना करता था और जब कॉलेज गए तो उर्दू की किताबों में मीर तकी मीर,मिर्ज़ा गालिब,अल्ताफ हुसैन हाली,दाग़ देहलवी,इकबाल और ना जानें कितने शायरों को पढ़ता था अजीब सा सुकून मिलता था शायद मेरे अंदर ग़ज़ल का शौक तभी से आ गया था फिर लिखने का शौक हुआ और बाद में जनाब राज़ नवादवी जी की किताब से मैंने ग़ज़लों की बारीकियां सीखी और बहुत छोटी सी कलम के सहारे संवारा ये मज्मू’आ आपकी खिदमत में आपकी दुआओं का तलबगार आपका फैज़ान ताज़ कुरैशी

  • Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing 
  • Language ‏ : ‎ Hindi
  • ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355355324
  • Reading Age ‏ : ‎ 3 Years And Up
  • Country Of Origin ‏ : ‎ India
  • Generic Name ‏ : ‎ Book

100 in stock (can be backordered)

SKU: Book1557BCP Categories: , , , , ,

Description

” नाम:फैज़ान ताज़ कुरैशी,
पिता का नाम: ताज़ मोहम्मद कुरैशी,
मां का नाम:शबनम परवीन

पैदाइश 8 अगस्त 1999 को उत्तर प्रदेश के रायबरेली शहर में एक छोटे से घर में हुई, ये वही शहर है जिसने हिंदुस्तान को एक अजीमुश्शान शायर दिया जनाब ’मुनव्वर राना’ जिन्होंने उर्दू ग़ज़ल और हिंदुस्तान का नाम पूरे दुनिया में रौशन किया है, मेरी प्रारंभिक शिक्षा राना मान्टेसरी जूनियर हाईस्कूल और उसके बाद वसी नक़वी नेशनल इंटर कॉलेज से हुई, 2019 में दुबई आकर रियल एस्टेट के ऑफिस में जॉब शुरू की और यहीं से ग़ज़लों को फिर से लिखना शुरू किया जो की हिंदुस्तान के कई बड़े अख़बार में प्रकाशित भी हुई हैं,खुदा का शुक्र है कि उसने इस मुकाम पर पहुंचाया की मेरी ग़ज़लों को किताब की शक्ल मिली।
सबसे पहले शुक्रिया मेरे मां बाप का जिन्होंने हर कदम पर मेरा साथ दिया आज जो कुछ भी हैं वो सब उनकी दुवाओं की बदौलत है,और बहुत शुक्रिया मेरी प्रेणना (नेहा) मेरे घर वालों,चाहने वालों और दोस्तों का जिन्होंने मेरी हौसला अफज़ाई की
Special thanks for __ Hassan taj quraishi

Additional information

Dimensions 5.5 × 8.5 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.