Roopkund : Mrutyucha na ulgadlela koda

  • Paperback : 149 Pages
  • Publisher: Booksclinic Publishing
  • Language: Marathi
  • Edition: 1
  • ISBN: 978-93-90871-10-0
  • Release Date : 06 April 2021

200.00

98 in stock (can be backordered)

Compare
  Ask a Question
SKU: book616BCP Category:

Book Details

Dimensions 5.5 × 8.5 cm

About The Author

Omkar Ravindra Joshi

“रुपकुंड

मै खड़ा शांत निश्चल हूँ |
क्यूँ सुन्न शून्य सा मौन हूँ |
ऊँची पर्बत की शिखरों सा,
क्यूँ निःशब्द अचल स्तब्ध हूँ |

हिम की वर्षा हो रही,
सामने योगी हिमालय है |
गर्भ में है ऊर्जा उष्ण सी,
ये कंकालों का कुंड़ है |

शांतता बसती यहाँ,
लेकर अंदर आग है |
मृत्यु का वह साक्षी,
शापित दग्ध कुंड़ है |

है कई गहरे राज़ यहाँ,
मिट्टी का कणकण है जानता |
पर ओढे़ बर्फ की चादर घनी,
वो कुंड़ इसे है छिपाता |

पर यह चुप्पी भी अजीब है,
इसकी भाषा थोड़ी भिन्न है |
मौन की भाषा जिसको समझे,
वही कुंड़ के समीप है |

पवन हुआ है शांत आज,
कोने में छोटा मंदिर है |
उस घटना की कहानी सुनाता,
सामने नंदा त्रिशूल है |

मैं भी हूँ मौन खड़ा,
सून राहा हूँ पुकार उसकी |
भूतकाल का भेद बताती,
पल पल है शांती जिसकी |

देह की यात्रा हुयई समाप्त,
उसके निशान अभी कायम हैं |
अस्थियों को है सँभाले,
वह धीरगंभीर कुंड़ है |

© ओंकार जोशी”

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

No more offers for this product!

General Inquiries

There are no inquiries yet.