• Kuchh Nahin To Buddhijivi Ban Jaiye by (Navodit) Quick View
    • Kuchh Nahin To Buddhijivi Ban Jaiye by (Navodit) Quick View
    • Kuchh Nahin To Buddhijivi Ban Jaiye by (Navodit)

    • 200.00
    • Rated 0 out of 5
    • पत्रकार जब व्यंग्य करता है तो उसका अंदाज़ अलग होता है. पत्रकार की पैनी नज़र से जब व्यंग्य निकलता है तो बहुत चुटीला होता है. पत्रकार जब सीधे सीधे समाचार लिखने की शैली को व्यंग्यात्मक करता है तो बहुत मजा आता है. वरिष्ठ पत्रकार नवोदित का यह व्यंग्य संग्रह - ' कुछ नहीं तो बुद्धिजीवी बन जाइए ' इस सब…
    • Add to cart
  • Likhit Lekhani : Manatale Bol by (Gayatri Hindurao Nagaonkar) Quick View
  • Maa  by	(Dr. Kishan Tandan Kranti) Quick View
    • Maa  by	(Dr. Kishan Tandan Kranti) Quick View
    • Maa by (Dr. Kishan Tandan Kranti)

    • 299.00
    • Rated 0 out of 5
    • " 'माँ' साझा काव्य-संग्रह के बारे में -------------------------------------------- 'छत्तीसगढ़ कलमकार मंच' के संयोजन में प्रकाशित होने वाली तीसरी साझा काव्य-कृति है : 'माँ'। कहते हैं संसार में 'माँ' ईश्वर का दूसरा रूप होती है। माँ की ममता अनमोल है। सच तो यह है कि माँ के बिना जीवन की परिकल्पना करना ही सम्भव नहीं है। इस साझा संकलन में साहित्य…
    • Add to cart
  • Maa ki Mamta by (Premsagar Kashyap) Quick View
    • Maa ki Mamta by (Premsagar Kashyap) Quick View
    • Maa ki Mamta by (Premsagar Kashyap)

    • 330.00
    • Rated 0 out of 5
    • बच्चे को जनम देकर माँ बनना बहुत आसान होता है लेकिन माँ का कर्त्तव्य निभाना एक तपस्या ही है जिनके बारे में एक सच्ची माँ के अतिरिक्त कोई दूसरा नहीं जान सकता है । अपने द्वारा जाए संतानों के लिए त्याग और समर्पण करने वाली माँ की न तो कभी कमी रही है और न ही कभी होगी लेकिन दूसरों…
    • Add to cart
  • Madhubrat-Gunjan : Svarachit Kavy Sangrah by (Dr. Om Prakash Mishra ‘Madhubrat’) Quick View
    • Madhubrat-Gunjan : Svarachit Kavy Sangrah by (Dr. Om Prakash Mishra ‘Madhubrat’) Quick View
    • Madhubrat-Gunjan : Svarachit Kavy Sangrah by (Dr. Om Prakash Mishra ‘Madhubrat’)

    • 300.00
    • Rated 0 out of 5
    • "अंतर्मन की पीड़ा का वहिर्जगत् की पीड़ा से तादात्म्य होते ही अभिव्यक्ति की आकुलता कवि हृदय में जाग पड़ती है । इसी व्याकुलता में प्रकृति के अनुपम चितेरे कविवर सुमित्रानंदन पंत जी ने लिखा था, वियोगी होगा पहला कवि, आह से उपजा होगा गान । उमड़ कर आँखों से चुपचाप, बही होगी कविता अनजान ।। अस्तु किं बहुना मधुब्रत-गुंजन काव्य…
    • Add to cart
  • Main Nirjhara : Zindagi Har Pal Hai Gungunati by (Ritu Gupta) Quick View
    • Main Nirjhara : Zindagi Har Pal Hai Gungunati by (Ritu Gupta) Quick View
    • Main Nirjhara : Zindagi Har Pal Hai Gungunati by (Ritu Gupta)

    • 249.00
    • Rated 0 out of 5
    • “मेरी यह पुस्तक हर उन युवाओं के लिए जो जीवन में कुछ करना चाहते हैं, जिनका जीवन में कोई लक्ष्य है | मुझे आशा है कि मेरी यह पुस्तक युवाओं के जीवन में बदलाव अवश्य लाएगी | मै पूरे दावे के साथ आप से वादा करता हूँ कि इस पुस्तक को पढ कर आपको अपना हर कार्य आसान लगने लगेगा…
    • Add to cart
  • Man ke Udgaar Aapke Dwaar by (Dr. Satya Prakash Sharma, Dr. Malti Sharma) Quick View
    • Man ke Udgaar Aapke Dwaar by (Dr. Satya Prakash Sharma, Dr. Malti Sharma) Quick View
    • Man ke Udgaar Aapke Dwaar by (Dr. Satya Prakash Sharma, Dr. Malti Sharma)

    • 194.00
    • Rated 0 out of 5
    • "दोस्तो यह कविताओ की पुस्तक जिसका शीर्षक है “मन के उद्गार आपके द्वार” आप सबको सादर समर्पित है, चूकि यह हमारी पहली रचना है जिसमे हमने अपनी मौलिकता तथा व्यवहारिक जीवन के दर्शन का सामजस्य बिठाने की कोशिश की है। जो विचार जिस समय हमारे जहॅन मे आते गये हमने उनको उसी समय कलमबद्ध करने की चेष्ठा की है। यहा…
    • Add to cart
  • Mandir Ke Pat by (Ranjana Verma) Quick View
    • Mandir Ke Pat by (Ranjana Verma) Quick View
    • Mandir Ke Pat by (Ranjana Verma)

    • 220.00
    • Rated 0 out of 5
    • Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing (19 November 2022) Language ‏ : ‎ Hindi Paperback ‏ : ‎ 176 pages ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355356857 Reading age ‏ : ‎ 3 years and up Country of Origin ‏ : ‎ India Generic Name ‏ : ‎ Book
    • Add to cart
  • Mangla : Upanyas by (Keshav Shukla) Quick View
    • Mangla : Upanyas by (Keshav Shukla) Quick View
    • Mangla : Upanyas by (Keshav Shukla)

    • 110.00
    • Rated 0 out of 5
    • "मंगला' एक ऐसी स्त्री का आख्यान है जो परिवार के प्रबंधन और संरक्षण-संवर्धन के लिए सर्वस्व समर्पण द्वारा स्वत्व का त्याग कर देती है। वह घर-परिवार के दायित्व निर्वाह को केंद्रस्थ करके न अपने स्वप्न को साकार कर पाती है, न ही प्रीति की पावन प्यार को स्वीकार कर पाती है। मंगला जैसा दुर्लभ-दुष्कर, निस्वार्थ-निष्कपट चरित्र आज भी जीवंत हैं…
    • Add to cart
  • Mati Ke Rang : Kavy-Sangrah by (Dr. Kishan Tandan Kranti) Quick View
    • Mati Ke Rang : Kavy-Sangrah by (Dr. Kishan Tandan Kranti) Quick View
    • Mati Ke Rang : Kavy-Sangrah by (Dr. Kishan Tandan Kranti)

    • 190.00
    • Rated 0 out of 5
    • " 'माटी के रंग' (काव्य-संग्रह) के बारे में --------------------------------------------------- कवि, लेखक, सम्पादक, समीक्षक एवं प्रशासनिक अधिकारी- साहित्य वाचस्पति डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति द्वारा रचित काव्य-कृति : 'माटी के रंग' में 101 कविताएँ संग्रहित हैं। इसमें एक ओर जहाँ माटी की महिमा का सुन्दर तरीके से बखान किया गया है, वहीं दूसरी ओर यह सन्देश भी दिया गया है कि मातृभूमि…
    • Add to cart
  • Mati Mor Mitan : Sajha Kavy-Sangrah by (Dr. Kishan Tandan Kranti) Quick View
    • Mati Mor Mitan : Sajha Kavy-Sangrah by (Dr. Kishan Tandan Kranti) Quick View
    • Mati Mor Mitan : Sajha Kavy-Sangrah by (Dr. Kishan Tandan Kranti)

    • 310.00
    • Rated 0 out of 5
    • " 'माटी मोर मितान' पुस्तक के बारे में 'छत्तीसगढ़ कलमकार मंच' के संयोजन में प्रकाशित होने वाली दूसरी साझा काव्य-कृति है : ""माटी मोर मितान""। यह कृति पावन माटी की महिमा और उसकी भीनी महक को जन-जन तक पहुँचाएगी। श्रेष्ठ लेखक के रूप में जैकी बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज टैलेंट आईकॉन 2022- साहित्य वाचस्पति डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति,…
    • Add to cart
  • Mera Pariwar : kavy-Sangrah by (Rajesh Kumar Banjare) Quick View
    • Mera Pariwar : kavy-Sangrah by (Rajesh Kumar Banjare) Quick View
    • Mera Pariwar : kavy-Sangrah by (Rajesh Kumar Banjare)

    • 85.00
    • Rated 0 out of 5
    • "प्रिय पाठकों मुझे खुशी है कि ""मेरा परिवार"" काव्य-संग्रह पुस्तक आप तक पहुँची है। मैंने अपने जीवन में परिवार के उन अनुभवों को कविता के माध्यम से आप सभी तक पहुँचाने की एक छोटी सी कोशिश कि है। जीवन विभिन्न समस्याओं से घिरा हुआ होता है। जीवन में परिवार ही है जो साथ होता है । कोई भी परेशानियाँ आये…
    • Add to cart