Shabdon Ki Parchhaiyaan : Kavita Sangrah by (Ramphal Tiwari)

210.00

“शब्दों की परछाइयाँ ‘मेरा पहला कविता-संग्रह हैl
हमारे सामने अनिश्चय और दुविधा का धुंध है, बुराइयों की भीड़ है, तथापि कुछ अच्छाइयाँ भी हैं जिनको बचाकर रखना भी हमारी जिम्मेदारी है l साहित्यकार होने के नाते अच्छाइयों और बुराइयों पर हमारी न्यायपरक समीक्षक दृष्टि होनी चाहिए l केवल प्रतिरोधी विचारों को परोसने से काम नहीं चलेगा l जो अच्छा और प्रांजल है, उसे पुरस्कृत भी करना होगा l उसे भी प्रकाश में लाना होगा l
कविता संग्रह ‘शब्दों की परछाईयाँ ‘में मानवीय संवेदनाओं, चारित्रिक पतन, प्राकृतिक घटनाओं, परिघटनाओं और आचरणगत परिवर्तन की कविताएं प्रमुखता से उद्धृत हैं l मानवीय चिंतायें, नारियों का शोषण, अतिवाद, भ्र्ष्टाचार और महंगाई एवं बेकारी से पीड़ित आत्मा का चित्कार, मनुष्यों का विभिन्न वर्गों में विभाजन, अभावग्रस्त मनःस्थितियाँ और संघर्ष की जिजीविषा को कविताओं में सामने लाने का प्रयास किया गया है l

-रामफल तिवारी”

  • Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing (25 August 2022)
  • Language ‏ : ‎ Hindi
  • Paperback ‏ : ‎ 164 pages
  • ISBN-13 ‏ : ‎ 9789355354907
  • Reading age ‏ : ‎ 3 years and up
  • Country of Origin ‏ : ‎ India
  • Generic Name ‏ : ‎ Book

100 in stock (can be backordered)

SKU: book1290BCP Category:

Description

“रामफल तिवारी
पिता- स्व. श्री रामखिलावन तिवारी
माता – स्व. श्रीमती मुरित कुंवर तिवारी
धर्मपत्नी- श्रीमती अरुंधती तिवारी
जन्म: 02सितम्बर 1957, अमोरा, जांजगीर (छत्तीसगढ़)
शिक्षा: एम. ए. (हिन्दी साहित्य.समाजशास्त्र) बी. टी. सी.
प्रकाशन: शब्दों की परछाईयाँ (2022) एवं देश भर की साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं और काव्य-संकलनों में
रचनाओं का नियमित प्रकाशन।
सम्पादन: वर्तमान स्वर (2006)सह.संपादक
सम्मान: ऋतंभरा साहित्य मंच कुम्हारी. दुर्ग से प्रशस्ति सम्मान.(2002) भारतीय वांग्मय पीठ कोलकाता से सारस्वत साहित्य सम्मान (2005) भारतीय दलित साहित्य अकादमी धमतरी (दुर्ग) से महर्षि बाल्मीकि अलंकरण सम्मान (2005).
साहित्य सृजन परिषद भिलाई से सृजन सम्मान (2005) श्री नर्मदा प्रकाशन लखनऊ, उ. प्र. से भावोन्नति, सृजन श्री, एवं काव्य रत्न साहित्य सम्मान (2021)
संप्रति: सेवानिवृत व्याख्याता. हिन्दी साहित्य. सोहागपुर (कोरबा) छ.ग. से ।
संपर्क: वी आई पी सिटी, प्लाटनं.130. जांजगीर
जिला – जांजगीर.चाम्पा (छत्तीसगढ़)
चल-दूरभाष – 8120785230
ई मेल – ramphaltiwari57@gmail.com

Additional information

Dimensions 5 × 8 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Shabdon Ki Parchhaiyaan : Kavita Sangrah by (Ramphal Tiwari)”

Your email address will not be published.