Kane Macchar ki Mahabooba BY (Atul Mishra)

200.00

  • Publisher ‏ : ‎ Booksclinic Publishing 
  • Language ‏ : ‎ Hindi
  • Paperback ‏ : ‎ 130 pages
  • ISBN-13 ‏ : ‎    9789390871001
  • Reading age ‏ : ‎ 3 years and up
  • Country of Origin ‏ : ‎ India
  • Generic Name ‏ : ‎ Book

100 in stock (can be backordered)

SKU: book647BCP Category:

Description

“लेखक-परिचय
नाम- अतुल मिश्र
पिता का नाम- स्वर्गीय श्री सुरेन्द्र मोहन मिश्र (कवि, लेखक एवं पुरातत्ववेत्ता)
जन्म- 15 जून 1958 .
शिक्षा- एम.ए. (प्राचीन इतिहास)
पैत्रक-निवास- श्री धन्वंतरि फार्मेसी, चंदौसी (उ.प्र.)
प्रकाशित कृतियाँ- तिरछी नज़र (कार्टून संग्रह ), भैंसिया गांव की भैंसें (व्यंग्य-संग्रह)
सम्प्रति- प्रबंध निदेशक, प्रतिमा प्रकाशन (चंदौसी)
मैनजिंग ट्रस्टी, श्री सुरेन्द्र मोहन मिश्र मेमोरियल चैरिटेबिल ट्रस्ट.
विशेष- पहला कार्टून नवीं कक्षा में सन 1971 में नवभारत टाइम्स (बम्बई) में प्रकाशित.
1978 में हास्य-व्यंग्य की बहुचर्चित रंगीन मासिक पत्रिका व्यंग्य कलश एवं व्यंग्यकार का सम्पादन एवं प्रकाशन.
सन 1982 में दिल्ली प्रेस की पाक्षिक पत्रिका मुक्ता में उप सम्पादक.
सन 1983 में मित्रा प्रकाशन की पाक्षिक पत्रिका माया के दिल्ली ब्यूरो में उप सम्पादक एवं संवाददाता.
इसके अतिरिक्त नवभारत टाइम्स सहित कई राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में सम्पादन कार्य और स्वतंत्र लेखन किया.
हिंदी की लगभग सभी प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में व्यंग्य, काव्य, इतिहास, पुरातत्व आदि विषयों पर लेख एवं कार्टून्स का प्रकाशन.
बहुचर्चित समाचार एवं फीचर सर्विस हिन्दवार्ता (नई दिल्ली) के प्रधान सम्पादक.
दैनिक अमर उजाला (मुरादाबाद)में क़रीब एक वर्ष तक नियमित रूप से दैनिक कार्टून स्तम्भ तिरछी नज़र का प्रकाशन.
विगत 25 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय.
करीब 15 वर्षों से दैनिक व्यंग्य-लेख-स्तंभों का विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और वेब न्यूज़ पोर्टल्स पर प्रकाशन.
दैनिक व्यंग्य लेख स्तम्भ तीसरा नेत्र और ज़बर-ख़बर’ से फ़ेसबुक पर अंतर्राष्ट्रीय ख्याति अर्जित की.
देश के सबसे बड़े व्यक्तिगत ” श्री सुरेन्द्र मोहन मिश्र पुरातत्व संग्रहालय ” की देख-रेख एवं संचालन.
रूहेलखंड के सैकड़ों प्राचीन ध्वन्सावशेषों की खोज कर वहाँ से प्राप्त प्राचीन दुर्लभ पुरावशेषों से अपने पिताश्री के संग्रह में अभिवृद्धि की.
सन 2012 में ’राजीव गाँधी एक्सीलेंस अवार्ड से दिल्ली में सम्मानित.
सन 2012 में ही ’भारत गौरव अवार्ड से दिल्ली में सम्मानित.
सन 2015 में इंडियन आइकॉन अवार्ड से मुंबई में सम्मानित.
सन 2015 में ’राष्ट्रीय गौरव सम्मान से लखनऊ में सम्मानित.
अनेक राष्ट्रीय कवि-सम्मेलनों में काव्य-पाठ.
दूरदर्शन एवं आकाशवाणी पर अनेक कार्यक्रमों का प्रसारण.
फिलहाल सन 1921 में अपने दादाजी द्वारा स्थापित श्री धन्वन्तरि फ़ार्मेसी, चन्दौसी की देख-रेख एवं संचालन में रत.
ईमेल- atul.is.mishra@gmail.com
मोबाइल- 91-9761268968,
व्हाट्सएप- 8938857406.

Additional information

Dimensions 5.5 × 8.5 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Kane Macchar ki Mahabooba BY (Atul Mishra)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *